Thursday, December 16, 2010

साँसें और होमियोपैथी


साँसें बारीक काटकर
भर लें आ
सौ सीसियों में..
"ऊँची ऊँचाई" पर जब
हाँफने लगें रिश्ते
तो
उड़ेलना होगा
फटे फेफड़ों में
इन्हीं सीसियों को

होमियोपैथी की खुराक
देर-सबेर असर तो करेगी हीं!!


-विश्व दीपक

3 comments:

sada said...

बहुत खूब कहा है ...।

दिपाली "आब" said...

khayal accha hai.

रश्मि प्रभा... said...

are waah......ye rachna vatvriksh ke liye bhejiye parichay, tasweer blog link ke saath rasprabha@gmail.com per