Friday, June 15, 2007

वक्त (पार्ट ४)

बड़ा जिद्दी था वह,
मुझसे हमेशा
दौड़ में बाजी लगाया करता था,
जानता था कि जीत जाएगा।
पर अब नहीं,
अब वो नजर भी नहीं आता,
क्योंकि
अब मैं जो जिद्दी हो गया हूँ,
न थकने की जिद्द पा ली है मैने।
शायद वक्त था वह,
कब का मुझसे पिछड़ चुका है।

-विश्व दीपक ’तन्हा’

6 comments:

alokadvin said...

क्योंकि
अब .......... maine apni aankhe band kar li..
din ko raat kahne ki zid pakdi hain..
pareshaaan hoon , ghayal hoon , majboor hoon ...

kun ?? ....
sach kehte hain - aakhir itni baar harne ka asar to waqt ke saath bhi nahi jaata...

शैलेश भारतवासी said...

पूरी तरह से सत्य है-

"शायद वक्त था वह,
कब का मुझसे पिछड़ चुका है।"

आजकल इसी रूप में आधुनिक लघुकथाएँ लिखी जा रही हैं।

Anonymous said...

अब मैं जो जिद्दी हो गया हूँ,
न थकने की जिद्द पा ली है मैने।

बहुत ही सुंदर पंक्तियां हैं!!

BiDvI said...

इन पंक्तियों को मैं निराशावादी दृष्टिकोण के बजाए ...एक दृढ़ निश्चय , लगान और वक़्त के पहले रहने की ख़्वाहिश के तौर पे लेता हूँ |

ज़िद्द ... ज़िद्द ना हो के निश्चय है ....

ख्वाब है जीतने का ....

इन ख्वाबों के आगे वक़्त भी झुक चुका है .....

गिरिराज जोशी "कविराज" said...

वक्त को पछाड़ने के लिये बधाई स्वीकार करें! :)

amy said...

AV,無碼,a片免費看,自拍貼圖,伊莉,微風論壇,成人聊天室,成人電影,成人文學,成人貼圖區,成人網站,一葉情貼圖片區,色情漫畫,言情小說,情色論壇,臺灣情色網,色情影片,色情,成人影城,080視訊聊天室,a片,A漫,h漫,麗的色遊戲,同志色教館,AV女優,SEX,咆哮小老鼠,85cc免費影片,正妹牆,ut聊天室,豆豆聊天室,聊天室,情色小說,aio,成人,微風成人,做愛,成人貼圖,18成人,嘟嘟成人網,aio交友愛情館,情色文學,色情小說,色情網站,情色,A片下載,嘟嘟情人色網,成人影片,成人圖片,成人文章,成人小說,成人漫畫,視訊聊天室,性愛,a片,AV女優,聊天室,情色